मकर संक्रांति पर जरूर करें इन 3 चीजों का दान, पूरी होगी मनोकामना

0

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो मकर संक्रांति के दिन दान-पुण्य करने से उसका सौ गुना फल मिलता है. साथ ही इस दिन गंगा स्नान का भी विशेष महत्व है

रायपुर

आज 14 जनवरी को मकर संक्रांति का पर्व है. सनातन धर्म में इस दिन का विशेष महत्व है, क्योंकि वर्ष का अकेला यही वो दिन होता है जब सूर्य देव अपना राशि परिवर्तन करते हुए धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं, जिसे हम मकर संक्रांति के नाम से जानते हैं. वैदिक शास्त्रों के अनुसार, मकर राशि शनि देव के स्वामित्व वाली राशि है, ऐसे में ये माना जाता है कि इस दिन पिता सूर्य, अपने पुत्र शनि के घर में प्रवेश करते हैं, जहां पिता-पुत्र का मिलाप होता है. मान्यता है कि मकर संक्रांति वाले दिन इन 3 चीजों का जरूर दान करना चाहिए. कहते हैं कि इस दिन से सर्दी के मौसम का अंत होता है, मतलब इस दिन से रात छोटी होने लगती है और दिन लंबे होने लगते हैं.

Makar Sankranti 2021: इस दिन तिल] गुड] दाल चावल का दान शुभ माना जाता है.

मकर संक्रांति वाले दिन लोग सूर्य देव को खुश करने के लिए अर्घ्य देकर उनसे प्रार्थना करते हैं. ज्योतिष शास्त्र की मानें तो मकर संक्रांति के दिन दान-पुण्य करने से उसका सौ गुना फल मिलता है. साथ ही इस दिन गंगा स्नान का भी विशेष महत्व है. आइए आपको बताते हैं कि मकर संक्रांति पर किन 3 चीजों का दान करना चाहिए जिससे आपको ज्यादा से ज्यादा फल की प्राप्ति हो सके.

गुड़ का दान
मकर संक्रांति वाले दिन गुड़ के दान को विशेष महत्व दिया गया है. कहते हैं कि इस दिन गुड़ दान करने से घर में दरिद्रता का नाश होता है. धन की कभी कमी महसूस नहीं होती है.

तिल का दान
मकर संक्रांति का पर्व खरमास की समाप्ति और शुभ कार्यों की शुरुआत है. मकर संक्रांति के दिन से ही घरों में शादी, मुंडन, गृह प्रवेश और नामकरण जैसे शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं. मकर संक्रान्ति के मौकै पर तिल और गुड़ के लड्डू खाए जाते हैं. ये न सिर्फ खाने में स्वादिष्ट होते हैं बल्कि यह कई गुणों से भी भरपूर होते हैं. धर्म ग्रंथों में तिल दान को बहुत विशेष बताया गया है. कई जगहों पर महिलाएं पूजा करते वक्त सुहाग की निशानियों को चढ़ाती हैं और फिर इन्हें 13 सुहागनों को बांटती हैं.