जाम धान नहीं उठा और कट्टा नहीं पहुंचा तो टेकारी केंद्र में सोमवार से धान खरीदी बंद

0

रायपुर

उपार्जित धान का परिवहन नहीं होने से‌ जाम धान की वज़ह से अब न तो धान खरीदी हेतु जगह बचा है और न‌ ही खरीदी हेतु कट्टा ही है । धान खरीदी बंद रहने वाले दो दिन शनि व रवि को जाम धान का‌ परिवहन नहीं हुआ और कट्टा नहीं ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌पहुचा तो मंदिरहसौद सहकारी बैंक शाखा के अधीन आने वाले टेकारी धान उपार्जन केन्द्र में आसन्न सोमवार से धान खरीदी बंद हो जावेगी ।


सोसायटियों के‌ गठन की वज़ह से भंग हुये सोसायटी में इस केन्द्र के तीन ग्राम टेकारी, कुंडा व खम्हरिया का प्रतिनिधित्व करने वाले पूर्व सदस्य चिंताराम वर्मा व‌ अशोक नायक के साथ इस केन्द्र का निरीक्षण करने व किसानों तथा केन्द्र प्रभारी से चर्चा करने के बाद यह जानकारी किसान संघर्ष समिति के संयोजक भूपेन्द्र शर्मा ने दी है ।

उन्होंने बताया कि सोसायटी द्वारा बनवाये गये 15 चबूतरों सहित ग्रामीणों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिये बनाये गये 2 विशाल चबूतरों में धान का स्टेक तो लगा ही है , किसानों के आक्रोश को देखते हुये ईंटों से बनवाये गये 7 अस्थायी चबूतरों में भी धान का क्षमतानुसार स्टेक लग गया है और अब खरीदी हेतु जगह शेष नहीं रह गया है । आगामी ख़रीदीं हेतु कट्टा भी नहीं होने की‌‌ वजह से सोमवार से धान खरीदी न किये जाने की बात किसानों द्वारा बतलाये जाने पर केन्द्र प्रभारी महेश साहू से संपर्क करने पर उन्होंने इसकी पुष्टि करते हुये कट्टा नहीं होने व धान खरीदी हेतु जगह नहीं होने की बात कह अपना हाथ खड़े कर ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌दिया ।

केे्द्र प्रभारी साहू के अनुसार इस केन्द्र में पंजीयत 645 किसानों के पंजीकृत 865 . 23 हेक्टेयर रकबे से अनुमानित 32 हजार क्विटल धान की खरीदी होनी है जिसके लिये लगभग 80 हजार कट्टे की‌ जरूरत थी । अभी तक लगभग 65 हजार तकरीबन कट्टटे मिलने व 26 हज़ार क्विटल धान की खरीदी ‌‌‌‌हो चुकने की जानकारी देते हुये उन्होंने बतलाया कि ‌‌‌‌‌‌‌‌‌आने वाले अनुमानित धान 6 हजार क्विटल के लिये लगभग 15 हजार कट्टे की आवश्यकता है ।

खरीदे गये धान में से महज 14 सौ कट्टा धान संग्रहण केन्द्र ले जाने व बीते कल शुक्रवार को मिलर्स के लिये 3325 कट्टे का आर ओ जारी किये जाने पर मिलर्स द्वारा समाचार लिखे जाने तक उठाव का बोहनी शुरू न किये जाने की जानकारी देते हुये बतलाया कि इस उठाव के बाद भी लगभग 25 हजार क्विटल धान जाम रहेगा । धान के उठाव व‌ कट्टो की मांग को ले विभागीय अधिकारियों से लगातार संपर्क में रहने की जानकारी देते हुये उन्होंने कहा कि कट्टे मिलने व खरीदी करनें लायक जगह परिवहन पश्चात उपलब्ध होने पर ही खरीदी संभव है ।