गोठ झंगलू मंगलू के…

0

😆😆😛😆😆

😅झंगलू :– भइया मंगलू , अमित हा डायलाग मारे रहिस – अर्जुन का अभिमन्यु नहीं , अजीत का अमित हूं ** तोड़ दूंगा सारे चक्रव्यूह

😂मंगलू :– चक्रव्यूह में खुसरे से पहिलि भसक गे झंगलू । डायलाग में दम हे , ये योद्धा अर्जुन के अभिमन्यु नइ हे * जउन रथ में सवार होके चक्रव्यूह भेदे बर निकले रहिस , वो रथ में चक्का ही नइ हे *

विजय मिश्रा

🤑🤑🤑🤑🤑