मंदिर गए एक ही परिवार के 5 बच्चे लापता

0

हिमाचल

पंजाब-हरियाणा-हिमाचल में 20 दिन से बच्चा चोर गिरोह की दहशत है. पंजाब-हरियाणा और चंडीगढ़ की सीमा पर स्थित हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के औद्योगिक क्षेत्र नालागढ़ के कंगनवाल गांव से एक ही परिवार के पांच बच्चों के लापता होने का मामला सामने आया है.

बताया जा रहा है कि बच्चे दोपहर को तीन बजे के करीब शिव मंदिर भाटिया में माथा टेकने के लिए गए थे, लेकिन वापस नहीं आए.बच्चों के लापता होने के बाद पीड़ित परिवार बच्चों की तलाश में दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं, लेकिन बच्चों का कोई सुराग नहीं लग पाया है. पीड़ित परिवार ने बच्चों के लापता होने की शिकायत पुलिस थाना नालागढ़ में दी है और पुलिस ने मामला दर्ज करके आगामी जांच शुरू कर दी है.

मंदिर माथा टेकने गए थे बच्‍चे
पीड़ित मां उर्मिला का कहना है कि शिव मंदिर भाटिया में उसके पांचों बच्चे तैयार होकर सत्‍संग सुनने के लिए गए थे, लेकिन वह वापस नहीं लौटे. उन्‍होंने कहा कि बच्चों को ढूंढ़ने के लिए वह शिव मंदिर गई और आसपास के मंदिरों और सब जगह ढूंढ़ लिया, लेकिन उनके बच्चों का कोई भी सुराग नहीं लग पाया है.

स्‍थानीय लोगों की मानें तो बीते कई दिनों से उनके गांव और आसपास के क्षेत्र में बच्चा चोर गिरोह के आने की दहशत है. उन्हें शक है कि उनके बच्चों को बच्चा चोर गिरोह के सदस्यों द्वारा उठाया गया है. उन्होंने स्थानीय पुलिस प्रशासन और सरकार से बच्चों को ढूंढ़ने के लिए उनकी मदद की गुहार लगाई है. बता दें कि सोलन में बीते 15 दिन में बच्चा चोरी की कोशिश के तीन मामले सामने आए हैं.

स्थानीय लोगों का कहना है कि औद्योगिक क्षेत्र नालागढ़ में बीते 20 दिनों से एक बच्चा चोर गिरोह ने खोखला रखा है और हर गांव में हर रात को पहरे लग रहे हैं. लोगों ने बताया कि उनके बच्चे भी शिव मंदिर में सत्‍संग सुनने के लिए गए थे, लेकिन वापस नहीं आए हैं. उन्होंने कहा कि इन के 5 बच्चों में 2 लड़कियां और 3 लड़के हैं. ग्रामीणों ने भी सरकार व प्रशासन से बच्चों को जल्द से जल्द ढूंढ़ने की गुहार लगाई है.

ये बोली पुलिस

नालागढ़ के कंगन वालों से प्रवासी परिवार के 5 बच्चों के लापता मामला मामले में पुलिस थाना नालागढ़ के प्रभारी राजकुमार का कहना है कि पुलिस मामले की जांच कर रही है. प्राथमिक जांच में पता चला है कि परिजनों ने बच्चों को डांटा है. उसके बाद बच्चे गायब हो गए हैं. राजकुमार का कहना है कि बच्चों की तलाश टीमों का गठन किया गया है. ऐसा लग रहा है कि बच्चे खुद ही लापता हुए हैं.