सभी कलेक्टर्स राजस्व न्यायालयों सहित अन्य विभागीय कार्यालयों का करें आकस्मिक निरीक्षण करें: संभागायुक्त

0

संभागायुक्त श्री चुरेन्द्र ने संभाग के सभी जिला कलेक्टरों को जिले में भम्रण के दौरान राजस्व व अन्य कार्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण करने और अनुविभाग स्तर पर समीक्षा बैठक लेने के दिए निर्देश

रायपुर

रायपुर संभाग के आयुक्त श्री जी.आर. चुरेन्द्र ने संभाग के सभी जिला कलेक्टरों को जिले में अपने भम्रण के दौरान एस.डी.एम. तहसील व नायब तहसील कार्यालयों सहित अन्य विभागीय कार्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण करने के निर्देश जारी किए है। वहीं उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों को अनुभाग स्तर पर विभागीय अधिकारियोें की बैठक लेकर आवेदनांे का निराकरण और विभागीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा करने को कहा है।

संभागायुक्त श्री चुरेन्द्र ने कहा है कि शासन द्वारा जारी आदेश के अनुसार सभी जिला कलेक्टर्स व जिले के जिला अधिकारी अपने जिले के कार्य क्षेत्र में पूर्व नियोजित तरीके से तथा आकस्मिक रूप से अपने अधीनस्थ कार्यालयों का निरीक्षण कर वहां संचालित गतिविधियों का आंकलन कर उसे बेहतर करने का प्रयास करेंगे परंतु यह देखने में आ रहा है कि इस आदेश का कड़ाई से पालन सुनिश्चित नही किया जा रहा जिससे मैदानी स्तर के कार्यालयों की गतिविधियों और विभागीय योजनाओं की प्रगति की समुचित समीक्षा नही हो पा रही है।

उन्होंने कहा कि जिले के राजस्व अधिकारियों के कार्यालय व न्यायालय का अवलोकन व आकस्मिक निरीक्षण नहीं होने से आवेदन काफी समय से लंबित पड़े है। राजस्व निरीक्षक, पटवारी समय पर अपनी रिपोर्ट नही दे रहे है। संभागायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि ग्राम पटेल, ग्राम कोटवार के पद तहसीलों में लम्बे समय से रिक्त होने के बावजूद नियुक्ति की कार्यवाही नहीं की जा रही है। कई राजस्व अधिकारियों इसकी जानकारी भी नही है। श्री चुरेन्द्र ने कहा कि ग्राम कोटवार, ग्राम पटेल ग्राम स्तर पर राजस्व प्रशासन की अहम कड़ी हैं। राजस्व अधिकारी द्वारा ग्राम पटेल, ग्राम कोटवारों की नियमित बैठक नही ले रहे है। राजस्व वसूली का कार्य उनसे न कराकर सीधे पटवारियों से ही कराया जा रहा है। ग्राम पदाधिकारियों के जो दायित्व भू राजस्व संहिता में प्रावधानित है, उनका अनुपालन व कर्तव्य निर्वहन के विषय में राजस्व अधिकारियों द्वारा मार्गदर्शन प्रदान नही किया जा रहा है।

तहसील कार्यालयों व अनुविभागीय अधिकारी (रा.) कार्यालय भवन का रख-रखाव, कार्यालय प्रबंधन व भवन परिसर की सफाई अच्छी स्थिति में नहीं है। जबकि इस संबंध में लगातार मार्गदर्शन और निर्देश दिए जा रहे है। लेकिन इस विषय में प्रयास नहीं करना चिंताजनक है। संभागायुक्त श्री चुरेन्द्र ने कहा कि सभी जिला कलेक्टर और जिला अधिकारी अपने पूर्व नियोजित कार्यक्रम तैयार कर व आकस्मिक रूप से जिले का दौरा करें। प्रवास के दौरान अनुविभाग स्तर पर जिला स्तरीय अधिकारियों, अनुविभाग स्तरीय एवं विकासखंड स्तरीय अधिकारियों की बैठक दो पाली में यथा- प्रथम पाली अधिकारियों व पंचायतीराज के प्रतिनिधियों व द्वितीय पाली में मात्र अधिकारियों की बैठक की नई प्रथा शुरू कर बेहतर प्रशासनिक व्यवस्था बनाने की दिशा में पहल करें जिससे जिले में सुशासन व जनोमुखी प्रशासन के आयाम को प्राप्त किया जा सके।